ब‍ारिश से पंजाब में गंभीर हालात को देखते हुए रेडअलर्ट जारी स्‍कूल-कॉलेज बंद
Breaking News :

PUNJAB

ब‍ारिश से पंजाब में गंभीर हालात को देखते हुए रेडअलर्ट जारी स्‍कूल-कॉलेज बंद
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Monday,24 September , 2018)

Punjab  News, 24 September 2018 :  पंजाब और हरियाणा में लगातार बारिश से हालत गंभीर हाे गई है। सरकार ने गंभीर हालात को देखते हुए रेडअलर्ट जारी कर दिया है और सेना व एनडीआरएफ को मदद के लिए तैयार रहने को कहा है। पंजाब में इस कारण शहरी और ग्रामीण इलाकों में पानी भर गया है। बारिश का पानी से सड़कें तालाब में बदल गई हैं और घरों में भी पानी भर गया है। चारों ओर, बाढ़ का नजारा है। राज्‍य में 25 सितंबर को स्‍कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। बारिश के कारण हादसों में कई लोगों की जान चली गई है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने लोगों से अपील की है कि जरूरी होने पर ही घर से निकलें। पंजाब में आपात स्थिति जैसे हालात पैदा हाे गए हैं। साेमवार को बा‍रिश के कारण हुए हादसों में एक बच्‍ची और किशोर की मौत हो गई। इसके अलावा 12 लोग घायल हो गए। रविवार को बारिश से हुए हादसों में छह लोगों की मौत हो गई थी। चंडीगढ़ में सोमवार को एक बयान में पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने लाेगों से बारिश के मद्देनजर सतर्क किया। कैप्‍टन अमरिंदर ने लोगों से अपील की कि अगले 24 घंटे तक सावधान रहें। उन्‍होंने कहा कि इस दौरान अति आवश्‍यक कार्य होने पर ही घरों से बाहर निकलें। बारिश के मद्देनजर पंजाब सरकार ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है। सरकार ने 25 सितंबर को सरकारी व प्राइवेट स्कूल व कालेजों में छुट्टी की घोषणा कर दी है। पंजाब सरकार ने सेना को भी तैयार रहने को कहा है। साथ ही मुख्यमंत्री ने एनडीआरएफ को तैयार रहने काे कहा है। जानकारी के अनुसार अभी तक करीब 200 मिली मीटर बारिश हो चुकी है। परेशानी की बात यह है कि पौंग डैम से अगर पानी छोड़ा जाता है तो इसका असर निचले क्षेत्रों पर आ सकता है। हालांकि भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड (बीबीएमबी) ने पंजाब सरकार को भरोसा दिलवाया है कि वह जहां तक होगा पानी को स्टोर करेंगे। इस बीच मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह स्थिति का जायजा लेने के लिए आपातकालीन बैठक की।मुख्यमंत्री ने बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होने की स्थिति में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को खाने के पैकेट व पशु पालन विभाग को जानवरों के लिए चारा आदि का इंतजाम करने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को भी निर्देश दिया है कि वह बारिश से होने वाली बीमारियों से निपटने के लिए तैयार रहे। मुख्यमंत्री ने जिलों के डिप्टी कमिश्नरों को स्थिति पर सीधे नजर रखने का भी आदेश दिया है। इस बीच वित्त विभाग ने बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए 7.40 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी है। यहां अायोजित उच्‍चस्‍तरीय बैठक में बीबीएमबी के चेयरमैन डीके शर्मा ने बताया कि वर्तमान में भाखड़ा डैम में 1655. 49 फीट पानी पानी है। भाखड़ा डैम की क्षमता 1680 फीट है। डैम का जलस्तर सुबह 1653.84 फीट था। हालात को देखते हुए डैम से छोड़े जा रहे पानी (ऑउट फ्लो) को कम कर दिया गया है। अब डैम से 19414 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। आज आउटफ्लो को कम करके  9788 क्यूसेक कर दिया गया है। इसी प्रकार पौंग डैम में 1385.12 फीट पानी है। पौंग की क्षमता 1390 फीट है। अहम पहलू यह है कि पौंड डैम में पानी की आवक में खासी तेजी आई है। सोमवार को 1.66 लाख क्यूसिक पानी की आवक रही। इस बीच पंजाब से राजस्थान के लिए 14,000 क्यूसिक पानी लगातार छोड़ा जा रहा है। चूंकि पंजाब में सिंचाई के लिए पानी की जरूरत नहीं है। जबकि राजस्थान में मांग बनी हुई है।

ब‍ारिश से पंजाब में गंभीर हालात को देखते हुए रेडअलर्ट जारी स्‍कूल-कॉलेज बंद