दाती से पूछा, क्या आपने पैर दबाने के बहाने शिष्या से करवाया गलत काम?  
Breaking News :

RAJASTHAN

दाती से पूछा, क्या आपने पैर दबाने के बहाने शिष्या से करवाया गलत काम?  
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Saturday,23 June , 2018)

Jaipur News 23 June 2018 : दिल्ली क्राइम ब्रांच की इंटरस्टेट सेल ने दिल्ली के श्री शनिधाम मंदिर के संस्थापक और अपनी खुद की शिष्या के साथ दुष्कर्म करने के आरोप में घिरे दाती मदन से शुक्रवार को 11 घंटे पूछताछ की। जानकारी के अनुसार दाती मदन सुबह 9.30 बजे इंटरस्टेट सेल के सामने पेश हो गए थे और शाम को 8.30 बजे पूछताछ खत्म हुई। इस पूछताछ में दाती ने मदन ने कहा है कि एक व्यक्ति से करोड़ों रुपए की कीमत का प्रॉपर्टी विवाद चल रहा है, जिसके चलते उसने इस लड़की को दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए तैयार किया। पूछताछ में सैकड़ों दस्तावेजों का बाबा
के सामने टीम ने वेरिफिकेशन किया। सेल के जांच अधिकारी अब बाबा का पोटेंसी टेस्ट भी कराएंगे।
ऐसे शुरू हुआ पूछताछ का सिलसिला
दाती के पहुंचते ही जांच अधिकारी समेत अन्य टीम ने पूछताछ शुरू कर दी थी। पूछताछ में इंटरस्टेट सेल की टीम ने उन सभी सबूतों का वेरिफिकेशन किया, जिन डॉक्यूमेंट के आधार पर दाती मदन पर दुष्कर्म का आरोप लगाया गया है। सेल ने दाती मदन को सुबह 11.30 बजे बुलाया था, लेकिन वह जांच सहयोग करने की बात को लेकर सुबह 9.30 बजे ही कार्यालय पहुंच गया।
पीड़िता और दाती मदन के भाइयों का वेरिफिकेशन
इंटरस्टेट सेल की समक्ष अब तक जितने भी दस्तावेज सामने आए हैं, इनमें पीड़िता, पीड़िता के पिता, आश्रम के सेवादार, दाती मदन के सौतेले भाइयों और खुद दाती की ओर से दिए बयान हैं। इसके अलावा सेल ने उन लोगों के दस्तावेज भी जुटाए हैं, जिन्होंने उस समय आश्रम में गुजारा था, जिस समय को पीड़िता ने रिपोर्ट में दर्शाया है।
पैर दबाने पर सबसे ज्यादा रोए बाबा
दाती मदन से पूछताछ कर रहे सेल के अधिकारियों ने जब पीड़िता के आरोप के बारे में पूछा कि क्या आपने पैर दबाने के बहाने शिष्या से कोई गलत काम करवाया था। इस बात पर दाती मदन सबसे ज्यादा रोए और उन्होंने कहा कि मेरा बाल विवाह हुआ था और विवाह के कुछ साल बाद ही मैंने अपनी पत्नी को छोड़ दिया और उसका कन्यादान किया था। ऐसे में मैं किसी के साथ गलत काम क्यों करूंगा। इस बात पर बाबा सबसे ज्यादा रोए कि आज मैं करोड़ों रुपए के प्रॉपर्टी विवाद की सजा भुगत रहा हूं।
विवादित व्यक्ति और बाबा का होगा आमना-सामना
ज्वाइंट कमिश्नर आलोक कुमार, एसीपी जसवीर सिंह और पुलिस निरीक्षक रितेश के सामने जब दाती मदन ने प्रॉपर्टी विवाद का खुलासा किया तो इन अधिकारियों ने तुरंत इस मुद्दे पर जांच करना शुरू कर दिया। अधिकारियों सचिन जैन नामक व्यक्ति को पूछताछ के लिए बुलाया है। वहीं दाती मदन को वापस मंगलवार को इंटर स्टेट सेल के समक्ष पेश होने का नोटिस दिया है। अब मंगलवार को इन दोनों का आमना-सामना कर पूछताछ शुरू होगी, वहीं प्रॉपर्टी के दस्तवेजों को भी टीम ने मंगवाना शुरू कर दिया है।
संस्थान ने नहीं दिया बालक बालिकाओं का रिकॉर्ड
राजस्थान राज्य महिला आयोग की गठित टीम ने दाती महाराज के आलावास ग्राम, जिला पाली में स्थित आश्वासन बाल ग्राम संस्थान का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार ग्राम आलावास में आश्वासन बाल ग्राम संस्था द्वारा प्राथमिक, उच्च माध्यमिक एवं महाविद्यालय का संचालन किया जा रहा है। विद्यालय एवं महाविद्यालय में प्रवेशित बालक-बालिकाओं का रिकॉर्ड टीम को उपलब्ध नहीं कराया गया और उनके संचालन की स्वीकृति बाबत कोई भी दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए गए। संस्थान द्वारा बालक एवं बालिकाओं के लिए छात्रावास का संचालन किया जा रहा है, लेकिन उसके संबंध में कोई भी रिकॉर्ड टीम को उपलब्ध नहीं कराए गए। छात्रावास से बालिकाओं के आगमन-प्रस्थान रजिस्टर भी टीम को नहीं दिखाया गया।
टीम को दी गलत जानकारी
टीम द्वारा निरीक्षण के दौरान उपस्थित कर्मचारियों ने उपस्थित छात्राओं की संख्या 153 बताई,जबकि निरीक्षण करने पर 253 छात्राएं मौके पर उपस्थित मिली। छात्राओं के पंजीयन, आगमन प्रस्थान के सम्बन्ध में किसी प्रकार का रिकॉर्ड रजिस्टर का संधारण नहीं किया जाना छात्राओं की सुरक्षा के सम्बन्ध में प्रश्नचिन्ह लगाता है, जो कि चिन्ता एवं जांच का विषय है। आयोग के अनुसार यहां पर छात्राएं भी सुरक्षित नहीं है और यहां पर जमकर अव्यवस्थाएं भी हैं।
विस्तृत जांच की जरूरत
आयोग अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा कि बाल ग्राम संस्था द्वारा संचालित विद्यालय, महाविद्यालय एवं छात्रावासों में बरती जाने वाली अनियमितताओं के संबंध में विस्तृत जांच कराई जानी आवश्यक है। आयोग ने छात्रावास में निवासरत बालिकाओं की सुरक्षा सुनिश्चित किए जाने के संबंध में जिला कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को अविलम्ब कार्रवाई करने के लिए लिखा है और अपनी पूरी जांच रिपोर्ट भी भेज दी है। 

दाती से पूछा, क्या आपने पैर दबाने के बहाने शिष्या से करवाया गलत काम?