विश्व एड्स दिवस मनाने का उद्देश्य HIV एड्स के बारे में हर आयु के व्यक्ति के बीच जागरूकता बढ़ाना :  विकास कुमार
GOVT OF INDIA RNI NO. 6859/61
Breaking News :

FARIDABAD

 विश्व एड्स दिवस मनाने का उद्देश्य HIV एड्स के बारे में हर आयु के व्यक्ति के बीच जागरूकता बढ़ाना :  विकास कुमार
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Wednesday,01 December , 2021)

Faridabad News,01 Dec 2021 (bharatdarshannews.com) : एनएच-3 स्थित ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल से बुधवार को विश्व एड्स दिवस-2021 के अवसर पर जिला रेडक्रास सोसायटी ने रोटरी क्लब फरीदाबाद सेंट्रल व रोटरी क्लब ऑफ फरीदाबाद संस्कार के सहयोग से स्किट एवं वॉकथॉन के माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसका थीम - ‘असमानताओं को समाप्त करें, एड्स को समाप्त करें’ था। इस मौके पर रोटरी क्लब ने छात्रों को टी-शर्ट का भी वितरण किया।
इस अवसर पर अतिथियों के रूप में जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव विकास कुमार, रोटरी डिस्ट्रिक्ट 3011 के सहायक गवर्नर रोटेरियन जगदीश सहदेव, रोटरी क्लब ऑफ फरीदाबाद संस्कार के अध्यक्ष योगेश गुप्ता, कोषाध्यक्ष बृजभूषण, संयुक्त सचिव चंदर नारंग तथा रोटरी क्लब फरीदाबाद सेंट्रल के सचिव आईपी सिंह उपस्थित रहे। कार्यक्रम में ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के डीन डा. असीम दास, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. परवीन गुलियानी चौधरी, सामुदायिक चिकित्सा विभाग की हैड प्रोफेसर डा. पूजा गोयल, कुलसचिव डॉ. ए.के. पाण्डेय, सहायक प्रोफेसर और संपूर्ण सामुदायिक चिकित्सा विभाग डॉ. रोहित ढाका तथा सामुदायिक चिकित्सा विभाग के सी.एम.ओ. डॉ. रतन प्रकाश धीर आयोजन सचिव के रूप में उपस्थित रहे। जिला रेडक्रास के सहायक पुरुषोत्तम सैनी, बिजेंद्र सौरोत, विमल खंडेलवाल, जिला प्रशिक्षण अधिकारी जतिन शर्मा आदि ने समारोह को सुचारू रूप से आयोजित करने मार्गदर्शन के लिए डीन डॉ. असीम दास का विशेष आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर सचिव विकास कुमार ने कहा कि विश्व एड्स दिवस मनाने का उद्देश्य एचआईवी संक्रमण के कारण होने वाली महामारी एड्स के बारे में हर आयु के व्यक्ति के बीच जागरूकता बढ़ाना है। एड्स आज के आधुनिक समय की सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार अब तक तीन करोड़ सत्तर लाख से भी अधिक व्यक्ति एच आई वी के शिकार हो चुके हैं जबकि भारत सरकार द्वारा दिए गए आकड़ों के अनुसार भारत में एचआईवी के रोगियों की संख्या लगभग तीस लाख के आसपास है।
रोटेरियन जगदीश सहदेव ने कहा कि एचआईवी एड्स एक प्रकार के जानलेवा इंफेक्शन से होने वाली गंभीर बीमारी है। इसे चिकित्सा भाषा में ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस अर्थात एचआईवी के नाम से जाना जाता है। इसे सामान्य बोलचाल में एड्स अर्थात एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम के नाम से जाना जाता हैं। इसमें जानलेवा इंफेक्शन व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर प्रहार करता है जिस से शरीर सामान्य बीमारियों से लडऩे में सक्षम नहीं हो पाता।

 विश्व एड्स दिवस मनाने का उद्देश्य HIV एड्स के बारे में हर आयु के व्यक्ति के बीच जागरूकता बढ़ाना :  विकास कुमार