प्रसिद्ध उद्योगपति डॉ. एच.के. बत्रा को (डब्ल्यूपीपीएस) की ओर से प्रशस्तिपत्र देकर किया गया सम्मानित
GOVT OF INDIA RNI NO. 6859/61
Breaking News :

FARIDABAD

प्रसिद्ध उद्योगपति डॉ. एच.के. बत्रा को (डब्ल्यूपीपीएस) की ओर से प्रशस्तिपत्र देकर किया गया सम्मानित
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Friday,30 July , 2021)

Faridabad News, 30 July 2021 (bharatdarshannews.com) : किसानों की आय बढ़ाने, रोजगार सृजित करने के लिए मूल्यवर्धन पर चर्चा के लिए तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय गेहूं संगोष्ठी (वर्चुअल सेमीनार) मंगलवार 6 जुलाई 2021 को आयोजित की गई। यह गेहूं उत्पाद संवर्धन सोसायटी (डब्ल्यूपीपीएस) की ओर से आयोजित होने वाली नौवीं वर्चुअल संगोष्ठी थी। जिसमें प्रसिद्ध उद्योगपति एवं वरिष्ठ समाजसेवी एवं फरीदाबाद चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष एवं परफेक्ट ब्रेड समूह के चेयरमैन डॉ. एच.के. बत्रा को किसानों की आय में सुधार और रोजगार पैदा करने में मदद करने के लिए मूल्यवर्धन पर ध्यान देने के साथ सुझाव व उनके विचारों को सुनकर श्री बत्रा को (डब्ल्यूपीपीएस) संस्था की ओर से प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया गया। बता दें कि अब तक श्री एच. के. बत्रा को समाजहित व देश हित में कार्यो को लेकर व एमएसएमई सैक्टरर्स में बेहतरीन सुझाव व अन्य विभिन्न क्षेत्रों में सकारात्मक मुद्दों पर भी कई बडें और विभिन्न अवार्ड़ व उन्हें प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया गया है। श्री बत्रा ने संगोष्ठी को लेकर बताया कि मूल्य के माध्यम से किसानों की आय बढ़ाने और रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए गेहूं और गेहूं उत्पादों पर 9वीं संगोष्ठी 6 से 8 जुलाई, 2021 को आयोजित की गई। श्री बत्रा के अनुसार भारत ने कम से कम एक दशक पहले ही गेहूं उत्पादन में आत्मनिर्भरता हासिल कर ली थी उन्होंने बताया कि पिछले साल 2020 में सितंबर माह में संसद द्वारा पारित नए कृषि कानून किसानों की मदद करने और उन्हें कृषि-व्यवसाय फर्मों, प्रोसेसर, थोक विके्रताओं, बड़े खुदरा विके्रताओं और निर्यातकों के साथ अनुबंध करने में सक्षम बनाने के लिए तैयार किए गए हैं।

संगोष्ठी का मुख्य फोकस

गेहूं उत्पाद संवर्धन सोसायटी (डब्ल्यूपीपीएस) के चेयरमैन आर.के. गर्ग के अनुसार सेमिनार गेहूं उत्पादों जैसे मिल्ड, बेक्ड और एक्सट्रूडेड उत्पादों के क्षेत्र में अपार अवसरों पर केंद्रित थी। बता दें कि भारत में 1,500 से अधिक आटा मिलें, 20 लाख खुदरा बेकरी, 5,000 औद्योगिक बेकरी और 2,000 से अधिक निकाले गए संयंत्र हैं जिनका उपयोग मूल्य वर्धित उत्पाद बनाने के लिए किया जा सकता है। गेहूं उत्पाद संवर्धन सोसायटी (डब्ल्यूपीपीएस) के आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री ए.एन. गुप्ता ने बताया कि इन नई तकनीकों को बढ़ावा देने और भारत को प्रसंस्करण क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर सकते हैं। इस गेहूं उत्पाद संवर्धन सोसायटी (डब्ल्यूपीपीएस) की ओर से आयोजित इस संगोष्ठी में गेहूं उत्पादन, प्रसंस्करण, नवाचार, उद्यमिता, गुणवत्ता आश्वासन और निर्यात पर कई विषयों पर चर्चा की गई। इस संगोष्ठी में विदेश से सहित 37 से अधिक वक्ताओं ने संगोष्ठी को संबोधित किया, जिसमें दुनिया भर के 1,000 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस सेमिनार का उद्घाटन नीति आयोग के सदस्य प्रोफेसर रमेश चंद्र ने किया।

प्रसिद्ध उद्योगपति डॉ. एच.के. बत्रा को (डब्ल्यूपीपीएस) की ओर से प्रशस्तिपत्र देकर किया गया सम्मानित