बरोदा उपचुनाव : दस गांव निभाएंगे प्रत्याशी की हार-जीत में भूमिका
Breaking News :

NATIONAL

बरोदा उपचुनाव : दस गांव निभाएंगे प्रत्याशी की हार-जीत में भूमिका
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Tuesday,27 October , 2020)

Baroda News, 27 October 2020 (bharatdarshannews.com) : बरोदा उपचुनाव में हलके के सबसे अधिक मतदाताओं वाले दस गांव प्रत्याशियों की हार-जीत में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे। मतदाताओं के लिहाज से भैंसवाल कलां, कथूरा, शामड़ी और गंगाना, बरोदा, रिंढ़ाना समेत दस गांव सबसे बड़े हैं। इन गांवों में करीब सात हजार से लेकर चार हजार से अधिक मतदाता है। तीनों प्रमुख दलों के प्रत्याशी इन गांवों में धुआंधार प्रचार कर रहे हैं। इन गांवों के मतदाता जिस प्रत्याशी पर अधिक भरोसा करेंगे, उसकी नैय्या पार लगनी तय मानी जा रही है।इसका फैसला दस नवंबर को होगा। कांग्रेसी विधायक श्रीकृष्ण हुड्डा के निधन के बाद खाली हुई बरोदा विधानसभी सीट के लिए तीन नवंबर को मतदान होना है। इसके लिए चुनाव प्रचार जाेरों पर है। भाजपा, कांग्रेस और इनेलो के स्टार प्रचारक कई दिन से बरोदा में डेरा डाले हैं और अगले कई दिन बरोदा में ही रहेंगे। बरोदा हलके में कुल 54 गांव हैं। अगर मतदाताओं की दृष्टि से देखें तो बरोदा, बुटाना, कथूरा, भैंसवाल कलां, मुंडलाना, शामड़ी, भावड़, आहुलाना, बिचपड़ी और रिंढ़ाना सबसे बड़े गांव हैं। इनमें से कई गांवों में तो दो-दो और दो गांवों में तीन-तीन पंचायतें हैं। हलके का सबसे बड़ा गांव दो पंचायतों वाला बरोदा हैं, यहां पर 7986 मतदाता हैं। वहीं सबसे छोटा गांव खानपुर खुर्द है, यहां पर 1329 मतदाता हैं।

ये हैं हलके के सबसे बड़े गांव

गांव                   मतदाता

1.बरोदा               7986

2.बुटाना              7323

3.कथूरा               6954

4.भैंसवाल कलां     6327

5.मुंडलाना            6019

6.शामड़ी              5279

7.भावड़               4399

8.आहुलाना          4287

9.बिचपड़ी           4028

10.रिंढ़ाना          2865

हलके के सबसे बड़े दो गांवों में तीन-तीन पंचायतें 

भौगोलिक दृष्टि से हैं शामड़ी और गंगाना हलके के दो सबसे बड़े गांव हैं। दोनों गांवों में तीन-तीन पंचायतें हैं। शामड़ी गांव के तहत शामड़ी सिसान, शामड़ी बुरान और शामड़ी लोहचब आते हैं। गांव गंगाना में भी तीन पंचायतें हैं। वहीं गांव भैंसवाल कलां, जागसी, बुटाना, रिंढा़ना, रुखी और भावड़ गांवों में भी दो-दो पंचायतें हैं।

लके के सबसे छोटे गांव में भी पहुंच रहे नेता

हलके में सबसे कम मतदाताओं का गांव खानपुर खुर्द है। इस गांव में कुल 1329 मतदाता हैं लेकिन तीनों पार्टियों के नेता इस गांव में भी पहुंच रहे हैं। वहीं हलके में कम मतदाताओं में दूसरे नंबर का गांव छपरा है। इस गांव में 1666 मतदाता हैं। 

बरोदा उपचुनाव : दस गांव निभाएंगे प्रत्याशी की हार-जीत में भूमिका