एकात्म मानववाद और अंत्योदय जैसे दर्शन के प्रणेता थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय : गोल्डी बरेजा                                  
Breaking News :

FARIDABAD

एकात्म मानववाद और अंत्योदय जैसे दर्शन के प्रणेता थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय : गोल्डी बरेजा                                  
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Friday,25 September , 2020)

Faridabad News, 25 September 2020 (bharatdarshannews.com) : पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर आज युवा समाजसेवी व भाजपा कार्यकर्ता गोल्डी बरेजा ने वार्ड-34 के विभिन्न इलाकों में अपनी टीम के साथ मिलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें पुष्पांजलि दी। इस अवसर पर  लोगों को उनके विचारों से अवगत कराते हुए गोल्डी बरेजा ने कहा कि एकात्म मानववाद और अंत्योदय जैसे दर्शन के प्रणेता थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय । वह एक संगठित देश की कल्पना करते थे। वे चाहते थे कि देश के गरीब,दलित व पिछड़े वर्ग को उसका अधिकार मिले। तथा हिंदुस्तान एक विश्व शक्ति के रूप में उभर कर सामने आए। गोल्डी बरेजा ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय भारतीय राजनीतिक एवं आर्थिक चिंतन को वैचारिक दिशा देने वाले पुरोधा थे। उन्होनें कहा कि एकात्म मानववाद के रूप में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने भारत की तत्कालीन राजनीति और समाज को उस दिशा में मुडऩे की सलाह दी है, जो सौ फीसदी भारतीय है। इस अवसर पर उनके साथ आर के टंडन, राजेश शर्मा, अजय बहल, विक्रम भुगरा, वैभव बजाज, आशीष अदलखा,मुकेश गुप्ता, एन के अग्रवाल,भूपेंदर सिंह चांनना, पंडित जगदंबा प्रसाद, प्रवीण भटेजा, एस के शर्मा, आदि उपस्थित थे।  

एकात्म मानववाद और अंत्योदय जैसे दर्शन के प्रणेता थे पंडित दीनदयाल उपाध्याय : गोल्डी बरेजा