अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं करने पर दो प्रत्याशियों को जारी किए गए नोटिस
Breaking News :

FARIDABAD

अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं करने पर दो प्रत्याशियों को जारी किए गए नोटिस
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Thursday,17 October , 2019)

Faridabad News, 17 October 2019 :  निर्वाचन आयोग द्वारा दी गई हिदायत अनुसार अपने चुनावी खर्च का ब्योरा प्रस्तुत नहीं करने पर जिला में दो प्रत्याशियों को नोटिस जारी किए गए हैं। चुनावी खर्च का ब्योरा नहीं देने पर फरीदाबाद एनआईटी में प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह डंगवाल को अब तक दी गई सभी प्रकार की अनुमतियां वापस ले ली गई है जबकि पृथला विधानसभा क्षेत्र में चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार राजेश तेवतिया को अपना चुनावी खर्च का ब्योरा प्रस्तुत करने के लिए 18 अक्टूबर को अंतिम अवसर दिया गया है। जिला निर्वाचन कार्यालय से प्राप्त सूचना अनुसार 86- फरीदाबाद एनआईटी से चुनाव लड़ रहे कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (मार्क्सिस्ट) के उम्मीदवार वीरेंद्र सिंह डंगवाल द्वारा एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर के समक्ष अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं करने पर उसे दी गई सभी प्रकार की अनुमति जैसे वाहन, कार्यालय खोलने आदि वापस ले ली गई है। 86-फरीदाबाद एनआईटी के रिटर्निंग अधिकारी एवं फरीदाबाद के अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेंद्र कुमार द्वारा श्री डंगवाल को इस बारे में नोटिस भेजकर सूचित भी कर दिया गया है। इसी प्रकार, 85- पृथला विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निग अधिकारी एवं हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के एस्टेट ऑफिसर विवेक कालिया ने चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी राजेश तेवतिया को अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं करने पर नोटिस जारी करते हुए 18 अक्टूबर को ब्यौरा प्रस्तुत करने का अंतिम अवसर प्रदान किया है। नोटिस में कहा गया है कि राजेश तेवतिया अपने चुनावी खर्च का विवरण फरीदाबाद के सेक्टर-12 स्थित लघु सचिवालय के कमरा नंबर 603 में पहुंचकर एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर के सामने प्रस्तुत करें अन्यथा उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। निर्वाचन आयोग की हिदायत अनुसार उम्मीदवार द्वारा पूरी चुनाव प्रक्रिया के दौरान मतदान तक तीन बार अपने चुनावी खर्च के ब्योरे का रजिस्टर एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर को दिखाया जाना जरूरी था और इसके लिए उम्मीदवारों को 10, 14 तथा 18 अक्टूबर की तिथियां दी गई थी। जिन दोनों उमीदवारों को नोटिस जारी किया गया है, वे 18 अक्टूबर को हर हाल में अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा एक्सपेंडिचर ऑब्जर्वर के सामने प्रस्तुत करके ही निर्वाचन आयोग की कार्रवाई से बच सकते हैं।
 

अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत नहीं करने पर दो प्रत्याशियों को जारी किए गए नोटिस