अभिव्यक्ति साहित्यिक संस्था के चतुर्थ वार्षिक समारोह में रचनाकारों औऱ साहित्य जगत के दिग्गजों ने चार चाँद लगा दिये
Breaking News :

DELHI/NCR

अभिव्यक्ति साहित्यिक संस्था के चतुर्थ वार्षिक समारोह में रचनाकारों औऱ साहित्य जगत के दिग्गजों ने चार चाँद लगा दिये
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Thursday,29 August , 2019)

New Delhi News, 29 August 2019 : दिल्ली के हिंदी भवन में अभिव्यक्ति साहित्यिक संस्था के चतुर्थ वार्षिक समारोह में फॉउण्डेशन अगेंस्ट थैलासीमिया के प्रधान हरीश रतरा, महासचिव रविंदर डुडेजा को विशेष रूप आमंत्रित किया गया। इस अवसर पर अंकित हो नाम सितारों में - अयन प्रकाशन -काव्य संग्रह - मधु मधुबाला (बेटी नेहा को समर्पित) मधुबाला की कलम से-काव्य संग्रह-अनुराधा प्रकाशन -मधु मधुबाला (भारतीय सेना को समर्पित) भाव तरंगिनी - अनुराधा प्रकाशन - काव्य संग्रह-नीलोफर नीलू, सुहानी भोर - कथा संग्रह - डॉ उषा किरण निम्न पुस्तकों का लोकापर्ण किया। कार्यक्रम में सुदूर प्रान्तों से आये रचनाकारों औऱ साहित्य जगत के दिग्गजों ने  समारोह को चार चाँद लगा दिये। अभिव्यक्ति संस्था की संरक्षिका /अध्यक्षा मधु मधुबाला ने मंचासीन अतिथियों का स्वागत  पुष्प गुच्छ औऱ अंग वस्त्र द्वारा किया। मंच की अध्यक्षता राष्ट्रीय हास्य कवि /पत्रकार महेंद्र शर्मा जी ने की। आजतक चैनल एसोसिएट,एक्सिक्यूटिव प्रोड्यूसर पंकज शर्मा जी (कार्येक्रम सो सॉरीद्ध) ब्लॉसम पोएट्री के अध्यक्ष कुलमनी चौधरी जी ,अनुराधा प्रकाशन के प्रकाशक मनमोहन शर्मा ‘शरण’ फाउंडेशन अगेंस्ट थैलेसीमिया फरीदाबाद के अध्यक्ष हरीश रतरा एवम महासचिव रविंदर डुडेजा जी एवम प्रख्यात युवा कवि अनिल सिंघानिया ने मंच की शोभा बढ़ाई। हरीश रतरा ने इस अवसर पर उपस्तिथ लोगो  को विस्तार से थैलासिमिया  की जानकारी दी।  रविंदर डुडेजा ने सभी कवियों व् लेखकों से आग्रह किया की वो अपनी रचनाओं व् कविताओं के माद्यम से लोगो को विस्तृत जानकारी देवे ताकि आने वाले समय में थैलासीमिया से ग्रस्त एक भी बच्चा पैदा न हो।  संचालन कमल पांचाल एवम कवि अबिनाश चंद्र मिश्र एवम नम्रता कंधारी जी ने सरस्वती वंदना की । माननीय अतिथियों ने  दीप प्रज्वलित एवम पुष्प माँ वीणा पाणी को अर्पित किये। इसके पश्चात (मधु मधुबाला) ने अभिव्यक्ति की अध्यक्ष होने के कारण अपने सभी सदस्यों की विशेषताओं को  मंच के समक्ष प्रस्तुत किया। मधु जी के आग्रह पर आ0 मनमोहन शर्मा शरण जी ने सभी पुस्तकों की विस्तृत समीक्षा की औऱ आदरणीय भूपी सूद जी को याद किया। कार्यक्रम की भव्यता इसी से आंकी जा सकती है इसमें जयपुर,देहरादून,अलीगढ़, पीलीभीत, इलाहाबाद,करनाल औऱ दूर दूर से आये रचनाकारों को सम्मानित किया गया। मनमोहन शर्मा शरण जी ने कार्यक्र्रम के अध्यक्ष राष्ट्रीय हास्य कवि महेंद्र शर्मा को अपना वक्तव्य देने के लिये आमंत्रित किया । उन्होंने चारों किताबों पर अपनी विस्तृत प्रतिक्रिया दी औऱ साथ ही अपने गीत से सबका मन मोह लिया। गीत कुँवर पंकज शर्मा जी ने अपने गीतों से समा बांधा । प्रख्यात युवा कवि अनिल सिंघानिया ने सबकी तारीफ बटोरी।  अभिव्यक्ति मंच के अबिनाश चंद्र मिश्र , अभय सिंह अभय जी , राजेश कुमार कमल कांत जी ,सुश्री वंदना गोयल जी , कृष्णा शर्मा दामिनी ,जावेद अब्बासी ने अपनी रचनाये पढ़ी औऱ करतल ध्वनि से सबने स्वागत किया। नीलोफर नीलू जी ने अपनी पुस्तक भाव तरंगिनी पर प्रकाश डाला। उषा किरण जी ने अपनी पुस्तक सुहानी भोर में लिखित कथाओं को सबके समक्ष रखा। (साहित्य सुजान सम्मान) तेरह समीक्षकों कमल कांत शर्मा,अबिनाश चंद्र मिश्र, सरोज सिंह,अभय सिंह अभय, राजेश कुमार,नीलोफर नीलू,उषा किरण,रजनी रामदेव,कोकिला वर्मा,रजनी अग्रवाल, सतीश वर्मा,बृज व्यास,आशा लता यादव को प्रदान किये गए। (साहित्य दिवाकर सम्मान) शिवकुमार बिलग्रामी ,कुंदन उपाध्याय,मंजुल मंजऱ लखनवी,कल्पना गोयल ,शुभदा वाजपेयी नरेश चंद्रा,शारदा कनोरिया,पंकज शर्मा, ममता पांडे, नरेंद्र कुमार झांवर, सुनील सिंह,मंजू वशिष्ठ राज,सुमित्रानंदन पंत, सुलोचना खुराना, गज़़लकार गोपाल केशरी,कपूर रुस्तगी,हरियाणा गौरव सुनील शर्मा, जावेद अब्बासी, दविंन्दर चंडोक,कृष्णा शर्मा दामिनी ,तुलिका सेठ,कनकलता गौड़, सुषमा शैली, रविशंकर सागर,राघव दुबे,विपिन गोयल, कोमल वाणी,कमल पांचाल, सरला सिंह,मदनलाल गर्ग,कमल धमीजा, कमलेश जैमिनी जी को दिया गया।  इस अवसर पर मधु बाला मधु ने कहा की फाउंडेशन अगेंस्ट थैलेसीमिया का सदैव अभिव्यक्ति मंच नाता रहा है उनके हर कार्य में सदैव अभिव्यक्ति मंच एवम मधु मधुबाला हृदय से समर्पित है । कार्यक्रम के समापन पर अध्यक्ष महेंद्र शर्मा जी एवम पंकज शर्मा जी ने सबको पुरस्कार वितरित किये।

 

 

अभिव्यक्ति साहित्यिक संस्था के चतुर्थ वार्षिक समारोह में रचनाकारों औऱ साहित्य जगत के दिग्गजों ने चार चाँद लगा दिये