जल स्त्रोतों को बचा लिया जाए तो पेयजल की किल्लत हो जाएगी दूर :  एमपी सिंह
Breaking News :

FARIDABAD

जल स्त्रोतों को बचा लिया जाए तो पेयजल की किल्लत हो जाएगी दूर :  एमपी सिंह
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Wednesday,17 July , 2019)

Faridabad News, 17 July 2019 :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जल शक्ति अभियान के तहत तथा अतिरिक्त उपायुक्त धर्मेंद्र सिंह के दिशा निर्देशन में ग्रीन फील्ड स्कूल सुनपेड़ में विद्यार्थियों और अध्यापकों को जागरूक किया गया जिसमें देश के सुप्रसिद्ध शिक्षा शास्त्री विचारक दार्शनिक प्रोफ़ेसर एमपी सिंह ने अपने संबोधन में कहा की एनसीआर में अगर प्राकृतिक जल स्त्रोतों को बचा लिया जाए तो पेयजल की किल्लत काफी हद तक दूर हो जाएगी यदि वर्षा के पानी को प्राकृतिक जल स्त्रोतों में संग्रहीत कर लिया जाए तो काफी हद तक इस समस्या पर काबू पाया जा सकता है इसके लिए झील जोहर तालाब जलाशय आदि के पानी को रिचार्ज जोन बनाना पड़ेगा इसके लिए ग्राम पंचायत के साथ और सहयोग की बहुत जरूरत है डॉ एमपी सिंह ने कहा की इन तालाबों में सिर्फ बरसात का पानी ही जाना चाहिए नाली तथा सीवर का पानी जाने से भूजल दूषित हो जाता है अतः हम सभी को जागरूकता का परिचय देना चाहिए और अपनी जिम्मेदारी को निभाना चाहिए यह सब कुछ हम सबके सहयोग से ही संभव हो सकता है इस अवसर पर विद्यार्थियों के साथ और सहयोग से 100 फलदार वृक्षों को स्कूल कैंपस में लगाया गया जिसमें विद्यार्थियों ने इन पौधों की देखरेख करने की जिम्मेदारी ली इस अवसर पर डॉ एमपी सिंह ने पेड़ पौधों की महत्ता पर प्रकाश डाला और विद्यार्थियों को पानी बचाने की शपथ दिलाई यदि पेड़ पौधे भरपूर मात्रा में रहेंगे तो ठीक समय पर मानसून आ जाएंगे और बरसात का पानी उचित मात्रा में मिल जाएगा इस समय बरसात होते ही पानी सूख जाता है डॉ एमपी सिंह ने कहा की हम सभी को मृत जलाशयों का जीवित करना होगा और अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाने होंगे डॉ सिंह ने कहा अगर पानी की बर्बादी को नहीं रोका गया तो तिजोरी में पेयजल को धन दौलत की जगह सुरक्षित रखा जाएगा इस समय फरीदाबाद प्रशासन इस स्थिति पर काबू पाने के लिए बहुत गंभीर है और सभी फरीदाबाद वासियों को जगाने का काम कर रहा है तथा मृत जलाशयों  को जिंदा करने के लिए कारगर कदम उठाए जा रहे हैं इस मुहिम में विद्यार्थियों के साथ और सहयोग की जरूरत है इन्होंने ही यह अलख घर घर में जगानी है और पानी की बर्बादी को रोकने में साथ और सहयोग देना है इस अवसर पर विद्यालय के चेयरमैन अशोक मोहन बस तथा प्रधानाचार्य श्वेता वत्स मुख्य रूप से उपस्थित रहे

जल स्त्रोतों को बचा लिया जाए तो पेयजल की किल्लत हो जाएगी दूर :  एमपी सिंह