हरियाणा में लोकसभा के साथ नहीं होंगे विधानसभा चुनाव
Breaking News :

CHANDIGARH

हरियाणा में लोकसभा के साथ नहीं होंगे विधानसभा चुनाव
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Friday,08 March , 2019)

Chandigarh News, 8 March 2019 : हरियाणा में विधानसभा चुनाव को लेकर सारी अटकलें लगभग समाप्‍त हो गई है। शुक्रवार को कैबिनेट की बैठक के बाद यह साफ हो गया कि लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव नहीं होंगे। राज्‍य मंत्रिमंडल की बैठक में हरियाणा विधानसभा को भंग करने पर कोई विचार नहीं किया गया। मंत्रिमंडल की बैठक में कई महत्‍वपूर्ण निर्णय किए गए। हरियाण मंत्रिमंडल की मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल की अध्‍यक्षता में कैबिनेट बैठक हुई। बताया जाता है कि इसमें विधानसभा भंग करने के किसी भी तरह के प्रस्‍ताव पर विचार नहीं हुआ। मंत्रिमंडल की बैठक के बाद राज्‍यमंत्री कृष्‍ण बेदी ने कहा कि हरियाणा में विधानसभा चुनाव समय पर ही होंगे। अब इसको लेकर अटकलें समाप्‍त हो जानी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि सीएम मनोहरलाल ने बजट सत्र में भी कहा था कि राज्‍य में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव नहीं होंगे। राज्य मंत्री कृष्ण बेदी ने कहा कि कैबिनेट की बैठक 16 एजेंडे में से नौ एजेंडे पास हुए। उन्‍होंने कहा कि हरियाणा में लाेकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव कराने के किसी प्रस्‍ताव पर विचार नहीं किया गया। उन्‍होंने कहा कि कैबिनेट की अगली बैठक होली के बाद होगी। उन्‍होंने कहा कि मंत्रिमंडल की बैठक में कई अहम फैसले किए गए। मंत्रिमंडल ने राज्‍य के लोगों को बड़ी राहत दी है। अब एक लाख 60 हजार रुपये तक का लोन लेने वालों को स्टाम्प ड्यूटी से निजात मिलेगी। इसके अलावा तीन अन्य श्रेणियों को भी लाभ दिया गया है। सिरसा में थेड़ में हाउसिंग बोर्ड के मकानों की ऑनरशिप दे दी गई है। यहां रह रहे 700 परिवारों को मालिकाना हक दिया गया है। उन्होंने कहा कि ऊर्जा नीति 2016 में किया गया संशोधन किया गया है। बता दें कि मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल की राज्‍यपाल से बृहस्‍पतिवार रात मुलाकात के बाद हरियाणा की राजनीति गर्मा गई थी। मनोहर लाल और राज्यपाल सत्‍यदेव नारायण आर्य के बीच करीब डेढ़ घंटे तक बातचीत हुई थी। इसके बाद राज्‍य कैबिनेट की बैठक पर सबकी नजरें टिकी हुई थी। जनीतिक गलियारों में चर्चा चल रही है कि कैबिनेट बैठक में विधानसभा भंग करने का निर्णय लिया जा सकता है। दूसरी ओर, लेकिन विभिन्न बोर्ड एवं निगमों में चेयरमैनों की नियुक्ति के साथ ही कई सीनियर भाजपा नेताओं ने स्पष्ट किया था कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ नहीं होंगे बृहस्‍पतिवार को रात को करीब साढ़े आठ बजे मुख्यमंत्री मनोहर लाल राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य से मुलाकात करने राजभवन पहुंचे। मुख्यमंत्री करीब दस बजे तक राजभवन रहे। इस दौरान चर्चाओं का बाजार गरम रहा। कयास लगने लगे कि मुख्यमंत्री राज्यपाल को शुक्रवार को विधानसभा भंग करने के फैसले की सूचना देने गए, लेकिन मुख्यमंत्री के लौटते ही पता चला कि उन्होंने तीन नए राज्य सूचना आयुक्तों के शपथ ग्रहण समारोह के लिए राज्यपाल से अनुरोध किया है, जिसे राज्यपाल ने स्वीकार करते हुए राजभवन में शुक्रवार सुबह साढ़े दस बजे शपथ ग्रहण समारोह रख दिया।

हरियाणा में लोकसभा के साथ नहीं होंगे विधानसभा चुनाव