टैप डीसी : वेस्टेज का जन्म न हो, इसलिए बनाना होगा सिस्टम : जे.पी. मल्होत्रा
Breaking News :

BUSINESS

टैप डीसी : वेस्टेज का जन्म न हो, इसलिए बनाना होगा सिस्टम : जे.पी. मल्होत्रा
(Kiran Kathuria) www.bharatdarshannews.com Tuesday,21 August , 2018)

टैप डीसी ट्रेनिंग प्रोग्राम में सीईओ चारू स्मिता ने वेस्ट और सेफ्टी के मानकों के संबंध में दी जानकारी

Faridabad News, 21 August 2018 : वेस्ट प्रबंधन केवल कुछ नियमों या टूल्स को कम कर संभव नहीं है बल्कि वेस्ट मैनेजमैंट वास्तव में एक ऐसी प्रक्रिया है जो विचारधारा के परस्पर आदान-प्रदान और प्रत्येक व्यक्ति की सहभागिता से संबंधित है। वेस्ट मैनेजमैंट केवल मैन्यूफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन, हैल्थ केयर एजुकेशन या साफ्टवेयर तक ही सीमित नहीं हैं बल्कि यह हमारे घर के भीतर भी उतनी ही महत्ता रखती हैं जितना उत्पादकता व व्यक्तित्व का विकास है। डीएलएफ इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन के प्रधान व ट्रेनिंग एंड पर्सनैल्टी डेवलपमैंट सैंटर के चेयरमैन जे.पी. मल्होत्रा ने यहां टैप डीसी कांफ्रैंस हाल में वेस्ट मैनेजमेंट पर आयोजित ट्रेनिंग प्रोग्राम में उक्त विचार व्यक्त करते कहा कि जब हम वेस्ट मैनेजमेंट के लिये अपने विचारों को आगे बढ़ाते हैं तो ही हमें सफलता मिलती है। वेस्ट मैनेजमेंट पर श्री मल्होत्रा ने कहा कि इसे कम करने से पूर्व वेस्टेज की दृश्यता और पहचान काफी जरूरी है। उन्होंने कहा कि हमें ऐसा सिस्टम बनाना होगा जिससे वेस्टेज का जन्म ही न हो, इसके लिये श्री मल्होत्रा ने मानकों को ध्यान में रखने और एक प्रभावी कार्यनीति क्रियान्वित करने की आवश्यकता पर भी बल दिया। वेस्ट मैनेजमेंट पर प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए टैप डीसी की सीईओ चारू स्मिता ने कहा कि एलीमीनेट, रिड्यूस और चेन्ज ऐसे तीन सिद्धांत हैं जिससे वेस्ट मैनेजमेंट संभव है। सुश्री चारू स्मिता ने वेस्टेज को समाप्त करने, उसका निपटारा करने को एलीमीनेट बताया जबकि सरलीकरण, केंद्रीकरण और मानकीकरण को वेस्टेज रिड्यूज के लिये आवश्यक करार दिया। यही नहीं उन्होंने चेन्ज कैटागिरी में बदलाव, एक्सचेंज और पृथकीकरण को शामिल करते कहा कि इन तीनों सिद्धांतों से वेस्ट मैनेजमैंट संभव है। ट्रेनिंग प्रोग्राम में सुश्री संगीता शर्मा ने हिंदी व इंगलिश में सात प्रकार के वेस्ट और सेफ्टी के मानकों के संबंध में जानकारी दी। सुश्री संगीता ने वेस्ट मैनेजमेंट पर विभिन्न प्रेजैन्टेशन द्वारा कई प्रकार से प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। ट्रेनिंग प्रोग्राम में एडवांस फोरजिंग, कार्तिक इलैक्ट्रोनिक, के के टैक्सटाईल, सांई पैकेजिंग, अरविंद इंजीनियरिंग, भारतीय बाल्वस, एन ई रबड़, एवरी इंडिया, टेकमसेह इंडिया लिमिटेड, गौतम इंजीनियरिंग, कॉसमॉस फाईबर ग्लास, एटीएम एक्सपोर्ट, विंग आटो, परफैक्ट ब्रेड व टैप डीसी के प्रतिभागी शामिल हुए। सुश्री चारू स्मिता मल्होत्रा सभी प्रतिभागियों को ६ एस संबंधी पोस्टर प्रदान किये और आह्वान किया कि वे ट्रेनिंग प्रोग्राम में ली गई जानकारी को आगे अन्य लोगों तक भी पहुंचाएं।

टैप डीसी : वेस्टेज का जन्म न हो, इसलिए बनाना होगा सिस्टम : जे.पी. मल्होत्रा